On Page SEO क्या है – 10 On Page SEO Optimization Techniques For Beginners

What is On Page SEO in Hindi :- पिछले पोस्ट में हम लोगो ने SEO के बारे में समझा था जैसे की seo क्या होता है? seo कितने तरह का होता है? अगर आपको नहीं पता है की SEO क्या होता है तो पहले आपको हमारा पिछले आर्टिकल पढ़ना चाहिए। अगर आप पहले से seo के बारे थोड़ा भी कुछ जानते है तो आपको इस आर्टिकल को समझने में ज्यादा परेशानी नहीं आएगी।

आज के इस आर्टिकल में हम लोग जानेंगे की On Page SEO क्या है?(What is On Page SEO in Hindi)। वैसे भी On Page SEO के बारे में थोड़ा बहुत जानकारी हमने seo क्या है आर्टिकल में शेयर कर दिया हूँ। इस पोस्ट में हम लोग on page seo को और थोड़ा विस्तार से सीखने या समझने का कोशिश करेंगे।

अगर आप आर्टिकल पर आर्टिकल यानि रोज एक आर्टिकल पब्लिश कर रहे है फिर भी आपके ब्लॉग साइट पर ट्रैफिक नहीं आ रहा है तो आपको on page seo थोड़ा और अच्छे ढंग से optimize करने जरुरत है। वैसे तो आर्टिकल को Search engine के लिए optimize करने के लिए तीन अलग अलग technique का इस्तेमाल किया जाता है उसमे से एक यह on page seo भी है।

तो चलिए जानते है On Page SEO क्या है? (What is On Page SEO in Hindi), On Page SEO course in Hindi, और On Page SEO के रैंकिंग फैक्टर कौन कौन सा है। इसके साथ आपको On page optimization के कई अलग अलग techniques के बारे में सिखने को मिलेगा।

On Page SEO क्या है? –  What is on page seo in hindi

On Page seo एक ऐसा technique है जिसके मदद से हम अपने वेब पेज को सर्च इंजन के लिए ऑप्टिमाइज़ करते है। ताकि हमारा वेब पेज या आर्टिकल गूगल या किसी अन्य सर्च में रैंक कर सके। इसमें हम लोगो को कुछ बातो का ध्यान ध्यान रखें पड़ता है जैसे की – Title, Permalink, Meta description इत्यादि। इस सभी के बारे में हम लोग आगे एक एक करके जानेंगे की क्या होता है।

यदि आप अपने वेबसाइट पर गूगल सर्च इंजन से आर्गेनिक ट्रैफिक लेना चाहते है तो आपको आर्टिकल अच्छे से लिखना होगा ताकि गूगल के bot और रीडर को अच्छे से समझ पाए कि आपका कंटेंट कहना क्या चाह रहा है। On Page seo करते है समय हम लोगो का यही कोशिश रहता है कि कंटेंट के अंदर कीवर्ड को ऐसे प्लेस करे कि कंटेंट क्वालिटी और इम्प्रूव हो जाए।

कीवर्ड को आर्टिकल के अंदर ऐसे प्लेस कीजिये कि आपके कंटेंट को पढ़ने में यूजर को बेकार ना लगे। कीवर्ड कंटेंट के साथ साथ Title, Headline, meta description, URL के अंदर भी डालना जरुरी है। on page seo करने में off page seo के अपेक्षा ज्यादा मेहनत और समय नहीं खर्च करना पड़ता है।

On-Page SEO करना जरुरी है?

अक्सर व्यक्ति इंटरनेट पर कुछ इनफार्मेशन ढूंढने के लिए गूगल या बिंग जैसे सर्च इंजन का इस्तेमाल करते है और उस व्यक्ति का query आपके वेबसाइट पर available है फिर वह व्यक्ति आपके साइट तक नहीं पंहुचा पता है। इसका मतलब आपका साइट सर्च इंजन पर रैंक नहीं हुआ है।

यदि आपको अपने साइट को सर्च इंजन में रैंक करवाना है तो आपको on page seo सीखना जरुरी है यूँ कहे तो SEO (Search Engine Optimization) आना चाहिए।

Read Also

On-Page SEO कैसे करें? (On Page SEO Technique in Hindi)

तो अब जानते है on-page seo technique क्या क्या है और on-page seo कैसे किया जाता है। वैसे तो आर्टिकल को सर्च इंजन में रैंक करने के लिए कई सारी फैक्टर्स पर ध्यान दिया जाता है लेकिन मैं आपको ऐसे 10 on-page optimization techniques दे रहा हूँ जिसके के मदद से आपका आर्टिकल आसानी से रैंक हो जायेगा। तो चलिए जानते है Stepwise On Page SEO Kaise Kare.

1. Keyword Research

यदि आप अपने आर्टिकल पर गूगल या किसी अन्य सर्च इंजन से ट्रैफिक लाना चाहते है तो आर्टिकल लिखने से पहले Keyword research करना सबसे महत्वपूर्ण काम है। अगर आप बिना कीवर्ड रिसर्च किये आर्टिकल लिखकर पब्लिश कर देते है और जिस विषय पर आप आर्टिकल लिखे है उसको कोई सर्च इंजन में सर्च नहीं कर रहा है तो आपका मेहनत बर्बाद हो जायेगा।

इसको उदाहरण के साथ समझते है मान लो की यूजर इंटरनेट पर सर्च कर रहा है on page seo kya hai, on page seo kaise karte hai, on page seo course in hindi, seo tutorial in hindi pdf, on page seo tutorial, on page seo course pdf तो आपको कीवर्ड रिसर्च करते समय कीवर्ड का volume, competition, keyword difficulty इत्यादि चीजे देखने है उसके बाद आर्टिकल लिखना है।

2. Content Quality/Article quality

आपको कंटेंट सरल भाषा में लिखना चाहिए ताकि रीडर उसको आसानी समझ सके और जिस कीवर्ड पर आर्टिकल लिख रहे है सिर्फ उसके बारे में लिखिए, कंटेंट की length बढ़ाने के चक्कर में इधर-उधर की बाते add करने से बचना चाहिए। क्योकि आपका कंटेंट गूगल बोट नहीं पढ़ेगा कंटेंट को कोई व्यक्ति पढ़ेगा और किसी भी व्यक्ति को आसान भाषा जल्दी समझ आता है।

यदि आप कंटेंट को सरल भाषा में नहीं लिखेंगे और गलती से भी आपका कंटेंट रैंक हो जायेगा और इंसान आपके साइट पर कंटेंट पढ़ने आएगा लेकिन अगर वो ज्यादा समय नहीं बिताएगा तो सर्च इंजन आपके कंटेंट को low-quality content मान कर आपके आर्टिकल के position को निचे कर देगा। तो आपको हमेशा एक इंसान पढ़ने योग्य कंटेंट लिखना है।

Read Also

3. Title Optimize करें

आपको हमेशा on page seo करते समय title के शुरुआत में फोकस कीवर्ड को लिखने का कोशिश करना चाहिए है अगर शुरू में कीवर्ड लिखने से टाइटल आकर्षित नहीं हो रहा है तो बिच में जरूर लिखिए। इससे सर्च इंजन के बोट को समझने में आसान होता है की आपका आर्टिकल किस विषय पर है।

आपको टाइटल हमेशा आकर्षित लिखना है ताकि visitors आपके url पर क्लिक करने को मजबूर हो जाए अगर आप कंटेंट बहुत अच्छे तरीके से लिखे है और आपका टाइटल आकर्षित नहीं तो visitors आपके यूआरएल पर गलती से भी क्लिक नहीं करेगा। हाँ एक बात और टाइटल को हमेशा 60 word से काम में लिखिए।

4. Meta Description Optimize करें

जब कोई यूजर सर्च इंजन पर कुछ सर्च करता है तो उसको Title और Meta Descriptions दिखता है Meta Descriptions टाइटल का निचला हिस्सा होता है। ये आपके कंटेंट का short विवरण होता है वैसे तो इसमें बहुत लोग 160 वर्ड से ज्यादा भी लिख देता है लेकिन ऐसा करने से seo में कुछ फायदा नहीं है। हमेशा Meta Description 130 – 160 शब्द के बीच में लिखिए और इसमें फोकस कीवर्ड जरूर डालिये।

5. SEO Friendly URL

जब गूगल का सर्च इंजन या किसी अन्य कंपनी का सर्च इंजन के बोट आपके आर्टिकल को crawl करता है तो वो url को भी देखता है। इसीलिए आपको url का length हमेशा छोटा और फोकस कीवर्ड के साथ लिखना चाहिए। यदि आपका यूआरएल अपने आप बन जाता है तो इसे आप एडिट भी कर सकते है।

हमेशा यूआरएल को english या hinglish में लिखिए। यूआरएल में symbols, brackets, Special characters,  commas ये सब चीज कभी भी नहीं डालना चाहिए।

6. Images Optimize करें

यदि आप आर्टिकल में इमेज अपलोड करते है और ALT tag नहीं लिखते है तो आपके आर्टिकल लिए बहुत नुकशान दायक साबित हो सकता है। इमेज अपलोड करने से पहले इमेज के नाम में अपने फोकस कीवर्ड का इस्तेमाल कीजिये और ALT tag में भी फोकस कीवर्ड लिखिए। क्योकि सर्च इंजन इमेज को ALT tag की help से पहचानता है।

7. वेबसाइट को Mobile Friendly बनाएं

on page seo में ये बहुत महत्वपूर्ण है क्योकि 65% से 75% seaches मोबाइल पर किया जता है यदि आपका वेबसाइट Mobile Friendly नहीं है तो आपके द्वारा लिखा गया कंटेंट कभी रैंक नहीं होगा। अगर आप चेक करना चाहते है की आपका वेबसाइट Mobile Friendly है की नहीं तो आप Google के Testing Tool का इस्तेमाल कर सकते है जिसका नाम Mobile Testing Tool है और gtmetrix से भी चेक कर सकते है

8. Internal Link (inbound Links)

Internal Link का मतलब है कि किसी एक आर्टिकल को किसी दूसरे आर्टिकल के अंदर लिंक डालना ही internal linking कहलाता है। यदि आप ब्लॉग पोस्ट लिख रहे है और आपके पोस्ट के अंदर कोई ऐसा शब्द आ जाता है जिसके बार में पहले से आर्टिकल लिख चुके है तो उसका लिंक इस शब्द में लगा दिया कीजिये।

ऐसे करने से आपके ब्लॉग का Pageviews बढ़ता है और Bounce rate कम होता है इससे सर्च इंजन के बोट को आपके साइट को क्रॉल करने में सहायता मिलता है।

9. External link (Outbound Links)

आप जिस विषय के बारे में पोस्ट लिख रहे है उसके संबधित किसी अन्य साइट के आर्टिकल का लिंक अपने आर्टिकल में डालिये। इससे आपके साइट का रैंकिंग भी बूस्ट होगा और गूगल को अच्छे से पता भी चलेग कि आपका आर्टिकल किस विषय के बारे में है।

आपको अपने आर्टिकल में External link डालने से पहले सामने वाले साइट का कंटेंट कंटेंट जरूर चेक कर लेना है।

10. Keyword frequency

आर्टिकल में कीवर्ड को जरुरत के अनुसार लिखना चाहिए यदि आप जरुरत से ज्यादा बार कीवर्ड लिखते है तो वो देखने में Unnatural और पढने में अजीब लगने लगता है। और तो और ऐसे करने से keyword-stuffing का खतरा बढ़ जाता है।

और बहुत कम बार कीवर्ड लिखने से सर्च इंजन के बोट समझने में मुश्किल हो जाता कि आपका आर्टिकल किस विषय पर है तो कीवर्ड का इस्तेमाल जरुरत के अनुसार कीजिये।


यह What is On Page SEO in Hindi – 10 on page optimization techniques आपके आर्टिकल को रैंक करने में बहुत मदद करेगा और इसके अलावा भी on page seo में बहुत सारे Factors होते है जिसके बारे में हमारे साइट पर आर्टिकल मिल जायेगा। लेकिन इस आर्टिकल में आपके साथ 10 महत्वपूर्ण Factors को शेयर किया हूँ। जो आपके आर्टिकल को गूगल में रैंक करने में बहुत ज्यादा मदद करेगा।

On Page SEO Techniques के बारे में Checklist/Quick Tips

दोस्तों आपको What is On Page SEO in Hindi के यह चेक लिस्ट बहुत काम आएगा हो सके तो हमारे आर्टिकल को बुकमार्क करके रख लिजिये या चेक लिस्ट में दिए गए पॉइंट कही लिख करके रख लिजिये

  1. 1. Title में फोकस कीवर्ड का इस्तेमाल जरूर कीजिये
  2. Permalink/url में फोकस कीवर्ड का इस्तेमाल कीजिये
  3. आर्टिकल के 100 शब्द के अंदर फोकस कीवर्ड का इस्तेमाल कीजिये।
  4. ALT Tag में फोकस कीवर्ड का इस्तेमाल कीजिये।
  5. Images अपलोड करने पहले compress करके Size(KB) कम कीजिये।
  6. फोकस कीवर्ड के Related कंटेंट लिखिए।
  7. फोकस कीवर्ड कि density 1% – 2% के आसपास रखिये।
  8. आर्टिकल का url छोटा और फोकस कीवर्ड के साथ बनाइये।
  9. H1 टैग का इस्तेमाल एक बार से ज्यादा मत कीजिये।
  10. आर्टिकल में Internal या External लिंक अवश्य डालिये।
  11. अपने पोस्ट का Lenght यूजर इनफार्मेशन के हिसाब लिखिए।
  12. वेब पेज स्पीड को बूस्ट और mobile friendly बनाइये।
  13. हो सके तो आर्टिकल में वीडियो और इन्फोग्राफिक्स का use कीजिये।
  14. Title को 60 word के साथ आकर्षित लिखने का कोशिश कीजिये।
  15. meta description को 130 – 160 वर्ड के अंदर आकर्षित लिखने का कोशिश कीजिये।
  16. आर्टिकल के शुरू में या अंतिम में Social share button का इस्तेमाल कीजिये।

Conclusion – What is On Page SEO in Hindi

दोस्तों आर्टिकल लिखने से पहले हम लोगो को एक बात का याद रखना चाहिए कि हम लोग आर्टिकल इंसान के लिए लिख रहे है ना किसी सर्च इंजन के लिए। यदि आपका आर्टिकल रीडर को पसंद आता है तो रीडर आपके साइट का नाम याद करके डायरेक्ट आपके साइट पर आ जायेगा।

बस हम लोगो को सर्च इंजन को ध्यान में रखकर अपने रीडर के लिए आर्टिकल लिखने कि जरुरत है यदि आपके पर यूजर ज्यादा तक रुकता है और एक पेज से दूसरे पेज पर जायेगा तो आपका आर्टिकल अपने आप रैंक होना शुरू हो जायेगा।

दोस्तों आशा करता हूँ कि आपको हमारी यह आर्टिकल What is On Page SEO in Hindi और On Page SEO Kaise Kare पसंद आया होगा और इस आर्टिकल What is On Page SEO in Hindi से आपको बहुत कुछ सिखने को मिला है

अगर इस आर्टिकल What is On Page SEO in Hindi के संबधित कोई प्रश्न या सुझाव देना चाहते है तो कमेंट करके जरूर बताइये। और इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ अवश्य शेयर कीजिये।

Spread the love

Leave a Comment